मुम्बई को भारत की आर्थिक राजधानी क्यों कहा जाता है? आइए जानते हैं

धन की देवी ‘लक्ष्मी’ का मायका ‘मुंबई’ को कहा जाता है | पुराणों में लक्ष्मी को समुद्र की संतान माना गया है। इस मान्यता के कारण ही समुद्र के किनारे बसे सभी शहरों /नगरों में बहुत धन-धान्य पाया जाता है | धन को माया भी कहा जाता है| धन की अथाह उपलब्धता के कारण मुंबई को मायानगरी के नाम से भी जाना जाता है ।
दरअसल “मुम्बई” नाम दो शब्दों से मिलकर बना है, 
  • मुंबा या महा-अंबा– हिन्दू देवी दुर्गा का रूप
  • जिनका नाम मुंबा देवी है 
  • और “आई” को मराठी में “मां” कहते हैं।
Why Mumbai is called the Economic Capital of India?
भारतीय पौराणिक ग्रंथों के अनुसार देवी लक्ष्मी का ही रूप देवी अंबा भी है। अतः मुम्बई को लक्ष्मी का घर भी कहा जाता है। आइये अब उन तथ्यों पर विचार करते हैं जो मुम्बई को भारत की आर्थिक राजधानी बनाते हैं।
  1. मुम्बई की भौगोलिक स्थिति:- मुम्बई की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह शहर समुद्र के किनारे स्थित है जिसके कारण यह सम्पूर्ण विश्व के साथ व्यापारिक संपर्क आसानी से बना लेता है | ब्रिटिश राज में भी सबसे पहले यहीं पर औद्योगिक विकास शुरू हुआ था | यहाँ पर सूती कपडा उद्योग बहुत ही समृद्ध है| मुम्बई की भौगोलिक स्थिति इसकी प्रगति का एक मुख्य कारक है। मुम्बई अरब सागर के किनारे पर स्थित है जिस कारण यह विदेशी निवेशकों को बहुत प्रिय है।
  2. शेयर बाजार तथा विनिमय केन्द्र:– बॉम्बे स्टाक एक्सचेंज भारत का सबसे पुराना तथा सबसे बड़ा विनिमय केन्द्र है। BSE भारत का पहला स्टाक एक्सचेंज है जिसे प्रतिभूति प्रतिबंध अधिनियम (1956) के अंतर्गत, सरकार द्वारा स्थायी स्वरूप प्रदान किया गया। बॉम्बे स्टाक एक्सचेंज की भारत के वाणिज्यिक विकास में मुख्य भूमिका है।
  3. बड़े उद्यमों के मुख्यालय तथा कार्यालयों की उपस्थिति:– मुम्बई को भारत की वाणिज्यिक राजधानी कहा जाता है क्योंकि मुम्बई में कई वित्तीय संस्थानों के कार्यालय जैसे भारतीय रिजर्व बैंक, भारतीय स्टेट बैंक, बॉम्बे स्टाक एक्सचेंज तथा टाटा समूह, गोदरेज, रिलायंस आदि के कार्यालय स्थित हैं। यही नहीं यहां फॉर्च्यून ग्लोबल 500 कंपनियां भी स्थित हैं।
  4. सपनों का शहर:– मुम्बई में अधिकाधिक, व्यावसायिक मौकों की मौजूदगी के कारण यह भारत के अन्य शहरों के लोगों को प्रवास के लिए आकर्षित करता है। जल-मार्ग तथा वायु मार्ग की उपस्थिति के कारण यह प्रवासियों को लुभाता है। मुम्बई को सपनों का शहर इसलिए भी कहा जाता है, क्योंकि पूरे देश से रोजाना यहां तकरीबन 5 लाख लोग आते हैं। कहा जाता है कि जो व्यक्ति मुम्बई आता है, उसके दिन अवश्य ही बदलते हैं।
  5. बॉलीवुड का केन्द्र:– मुम्बई में ही मनोरंजन के दो प्रमुख स्रोत सिनेमा तथा टेलीविजन जगत का मुख्यालय स्थित है तथा यहां विश्व में सालाना सबसे अधिक फिल्में बनायी जाती हैं। मुम्बई भारत की ओर से लांस एन्जेलेस को चुनौती दे सकता है। बॉलीवुड उद्योग का सालाना कुल आमदनी लगभग 3 अरब डॉलर है।
  6. भारत में वाणिज्यिक गतिविधियों का केन्द्र:– मुम्बई भारत की सबसे वैभवशाली नगरी है। भारत के उद्योगों का 25% हिस्सा तथा सकल घरेलू उत्पाद का 5% हिस्सा मुम्बई से प्राप्त होता है| तकरीबन 3 करोड़ से ज्यादा आबादी वाले इस शहर से देश के समुद्री व्यापार का 40 फीसदी व्यापार होता है। इसके अलावा देश का 70 फीसदी पूंजीगत लेन-देन भी यहीं से होता है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि पूरे देश से इकट्ठा होने वाले इंकम टैक्स का 30 फीसदी हिस्सा केवल मुम्बई से आता है।
  7. रोजगार का केन्द्र:– मुम्बई विश्व के निवेशकों को भारतीय बाजारों की ओर आकर्षित करता है। भारत की अर्थव्यवस्था को मुम्बई से सबसे अधिक राजस्व की प्राप्ति होती है तथा लाखों की संख्या में रोजगार के अवसर भी इसी नगरी में प्राप्त होते हैं। इसी कारण अनेक युवा इस शहर में आकर अपना भाग्य आजमाते हैं।
  8. करोड़पतियों का शहर:–पूरे महाराष्ट्र राज्य में मुम्बई की प्रति व्यक्ति आय सबसे अधिक 1.67 लाख है | भारत के सबसे ज्यादा अमीर लोग (41,200 करोड़पति) इसी शहर में रहते हैं जबकि दिल्ली में 20,600 करोड़पति रहते हैं |
  9. पत्तन तथा जहाज निर्माण उद्यम:- मुम्बई का जहाज निर्माण उद्यम विश्व में प्रशंसनीय है। मुम्बई, विदेशी मुद्रा को आकर्षित करने में बहुत प्रशंसनीय योगदान देता है | भारत के कुल समुद्र व्यापार का 40% यहां से होता है।
  10. गेटवे ऑफ इंडिया– निवेशकों का प्रवेश द्वार:- गेटवे ऑफ इंडिया मुम्बई की पहचान का पर्याय बन गया है। जो पर्यटक इस शहर को घूमना चाहते हैं उनके लिए यह प्रवेश द्वार की तरह कार्य करता है | इसी प्रकार यह गेटवे विदेशी निवेशकों और पर्यटकों को आकर्षित करता है जो कि विदेशी मुद्रा के बहुत बड़े स्रोत हैं |
पोस्ट अच्छी लगी हो तो शेयर जरुर कीजिए।

Leave a Comment